लोकसभा चुनाव से पहले कांग्रेस ने उठाया बड़ा कदम, इस नेता को पार्टी में फिर किया शामिल

लोकसभा चुनाव से पहले कांग्रेस ने उठाया बड़ा कदम, इस नेता को पार्टी में फिर किया शामिल



New Delhi. आगामी लोकसभा चुनाव से पहले कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने अपनी पार्टी के एक बड़े नेता का वनवास खत्म कर दिया यानि पार्टी में वापस ले लिया है। दरअसल, अपने विवादित बयानों के चलते अक्सर चर्चा में रहने वाले नेता ने पीएम मोदी को नीच आदमी तक कह डाला था। इसके बाद कांग्रेस इस नेता पार्टी की सदस्यता से निलम्बित कर दिया था। बता दें कि कांग्रेस प्रमुख ने केंद्रीय अनुशासन समिति की अनुशंसा पर कल पार्टी से अय्यर का निलंबन वापस ले लिया था।

कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर का निलम्बन रद्द होने के बाद भारतीय जनता पार्टी ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की आलोचना की है। भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा कि ऐसा करना कांग्रेस प्रमुख और ‘काफी विवादों में रहने वाले व्यक्ति के प्रति उनके प्यार’ का पर्दाफाश करता है। पार्टी प्रवक्ता संबित पात्रा ने पूछा कि कांग्रेस ने अय्यर को वापस पार्टी में क्यों लिया और कहा कि क्या पार्टी उनके बगैर अधूरी थी।

यह भी पढ़ें … मायावती के लिए मुसीबत बन सकता है बसपा का ये भगवा विधायक

भाजपा ने कहा कि राहुल गांधी ने स्पष्ट किया था कि कांग्रेस अय्यर की गलत भाषा का समर्थन नहीं करती और पार्टी में ऐसे नेताओं के लिए जगह नहीं है, लेकिन अब जिस तरीके से उन्हें वापस लिया गया है, यह दिखाता है कि यह केवल बयानबाजी थी और कांग्रेस अध्यक्ष का पर्दाफाश हो गया है। पीएम नरेंद्र मोदी मोदी के खिलाफ अय्यर द्वारा दिए गए कई विवादास्पद बयानों का जिक्र करते हुए भाजपा नेता ने कहा कि वह कांग्रेस का असली चेहरा हैं।

बता दें कि गुजरात चुनावों के दौरान पीएम नरेंद्र मोदी को ‘नीच आदमी’ कहने के लिए अय्यर को पिछले साल सात दिसंबर को कांग्रेस ने प्राथमिक सदस्यता से निलंबित कर दिया था। इनता ही नहीं कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्विटर पर मणिशंकर अय्यर के इस बयान की आलोचना भी की थी। अय्यर ने कहा था कि वह हिंदी अच्छी तरह से बोलना नहीं जानते हैं इसलिये इस शब्द का इस्तेमाल करते समय उनको यह नहीं पता था कि इसका क्या मतलब हो सकता है। यही नहीं, इससे पहले भी पीएम मोदी को लेकर विवादित बयान दे चुके हैं।

यह भी पढ़ें … मायावती ने किया संगठन में बड़ा फेरबदल, इन छह नेताओं को सौंपी सूबे की जिम्मेदारी


You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *