बसपा सुप्रीमो मायावती ने पार्टी नेताओं को भेजा पैगाम: कहा, 90 सीटों पर...

बसपा सुप्रीमो मायावती ने पार्टी नेताओं को भेजा पैगाम: कहा, 90 सीटों पर…



New Delhi. आगामी लोकसभा चुनाव और विधानसभा चुनावों को देखते हुए बहुजन समाज पार्टी की सुप्रीमो सक्रिय हो गईं हैं। सत्ताधारी दल भारतीय जनता पार्टी को सत्ता से बेदखल करने के लिए रणनीति बनाने में लगी हुई हैं। मायावती ने अब छत्तीसगढ़ में संगठन को मजबूत करने के लिए कई बड़े नेताओं को अहम पदों पर बिठाया है तो कईयों को प्रभारी नियुक्त किया गया है।

बहुजन समाज पार्टी की प्रमुख मायावती ने छत्तीसगढ़ में विधानसभा चुनाव से पहले थोक में प्रभारियों की नियुक्ति की है। माना जा रहा है कि सूबे में बसपा ने पहली बार इतनी बड़ी संख्या में पदाधिकारियों की निुयक्ति की है। अब सूबे में आधा दर्जन से अधिक प्रभारी सूबे में जोनवार दौरा करेंगे। माना जा रहा है कि सभी संभागों में हो रहे इन दौरे से वो ग्राउंड रिपोर्ट तैयार करेंगे, जो पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती को सौंपी जाएगी। 19 अगस्त तक इनके जरिए जमीनी स्तर पर संगठन का रिव्यू भी किया जाएगा। प्रदेश में ये दूसरा मौका है जबकि प्रदेश प्रभारियों के इस तरह का व्यापक कार्यक्रम बनाया गया है।

यह भी पढ़ें … लखनऊ की जनता के दिल पर राज करते थे अटल

राष्ट्रीय महासचिव डॉ. अशोक सिद्धार्थ भी संभाग स्तर पर समीक्षा बैठक करेंगे। इससे पहले हाल ही में उन्होंने रिव्यू किया था। दरअसल, छग के बसपा के चुनावी इतिहास में पहली बार मायावती ने एक साथ इतने सारे प्रदेश प्रभारियों की नियुक्ति की है। इसमें डॉ. अशोक सिद्धार्थ, लालजी वर्मा, भीम राजभर, एमएल भारती, अंबिका चौधरी और अजय साहू हैं। इससे पहले हुई पार्टी की समीक्षा बैठक में सभी 90 विधानसभा सीटों पर बूथ स्तर पर एजेंट बनाने का निर्देश दिया गया था। इसको लेकर हुई प्रगति का भी जायजा लिया जाएगा।

19 के बाद मायावती लेंगी बैठक

इस बार रणनीतिक तैयारियों पर ज्यादा फोकस रहेगा। पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कार्यकर्ताओं तक पहुंचाने के लिए एक पैगाम भी दिया है, जिसमें कहा जा रहा है कि पार्टी को सभी 90 सीटों पर ही तैयारी करनी है। उम्मीदवारों की चयन प्रक्रिया में इसी रिव्यू मीटिंग के बाद अंतिम मुहर लगने की संभावना जताई जा रही है। ये भी मुमकिन है कि 19 अगस्त के बाद प्रत्याशियों के पैनलों की सूची लेकर प्रभारी सुप्रीमो के पास जाएं, क्योंकि इसके बाद सभी प्रभारियों की बसपा सुप्रीमो के साथ बैठक भी प्रस्तावित है।

गठबंधन पर नहीं है ग्राउंड रिपोर्ट

पार्टी के प्रभारियों ने पहले ही स्पष्ट किया है कि गठबंधन पर कोई ग्राउंड रिपोर्ट तैयार नहीं की जा रही है। ये कवायद केवल संगठन की ग्राउंड लेवल पर हो रही तैयारियों का जायजा लेने के मद्देनजर हो रही है। बूथ लेवल पर एजेंट तैयार कर जमीनी स्तर पर मजबूती देने का एजेंडा है। इसमें कार्यकर्ताओं से फीडबैक भी लिया जाएगा।

यह भी पढ़ें … महागठबंधन: इस बड़े नेता को मिली पश्चिमी यूपी की जिम्मेदारी, भाजपा में हड़कम्प


You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *