दलितों ने किया ये बड़ा ऐलान, सरकार की बढ़ी मुसीबत

दलितों ने किया ये बड़ा ऐलान, सरकार की बढ़ी मुसीबत



Share on FacebookTweet about this on TwitterShare on Google+Pin on PinterestShare on LinkedIn

Lucknow. आगामी लोकसभा चुनावों को लेकर सभी दल रणनीतियां बनाने में में लगे हुए हैं। सभी राजनीतिक दल अपने—अपने परम्परागत वोटरों को लुभाने के लिए रणनीतियां बना रहे हैं। इस बीच दलित संगठनों ने दलितों पर बढ़े अत्याचार के विरोध में और एसएसी/एसटी एक्ट को और सख्त बनाने सम्बंधी मांगों को लेकर भारत बंद का आह्वान किया है, जिससे प्रदेश सरकार की मुसीबत बढ़ गई है। प्रदेश सरकार ने भारत बंद को देखते हुए हाई अलर्ट जारी कर दिया है। बता दें कि इससे पहले हुए भारत बंद के दौरान हिंसा फैल गई थी, जिसमें तमाम लोगों की मौत हो गई है। इस घटना के बाद केंद्र सरकार को किरकिरी का सामना करना पड़ा था।

Dalit

केंद्र सरकार ने भले ही लोकसभा में एससी-एसटी अत्याचार निवारण संशोधन अधिनियम बिल पेश कर दिया है, इसके बावजूद दलित संगठनों ने 9 अगस्त को भारत बंद का आह्वान किया है। एससी/एसटी एक्ट को सख्त बनाने समेत कई मांगों को लेकर दलित संगठन बीजेपी सरकार पर दबाव बना रहे हैं। इसका समर्थन कई बीजेपी नेता भी कर रहे हैं।

मायावती भी अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति संशोधन विधेयक 2018 लोकसभा में पारित होने का श्रेय बसपा कार्यकर्ताओं को दे रही हैं। देश में दलितों के खिलाफ बढ़ रहे अत्याचार, SC-ST एक्ट में बदलाव लाने और उच्च शिक्षा संस्थानों में नियुक्ति के लिए नया रोस्टर, आदि मुद्दों को लेकर दलित एक बार फिर आंदोलन की राह पर हैं। इसके अलावा दलित संगठनों की मांग है कि दलितों के खिलाफ आदेश देने वाले सुप्रीम कोर्ट के पूर्व न्यायाधीश जस्टिस गोयल की एनजीटी के अध्यक्ष पद से बर्खास्तगी की जाए।

यह भी पढ़ें … महागठबंधन पर मनीष सिसोदिया ने कही ये बड़ी बात: बोले, मायावती-अखिलेश …

वहीं, एडीजी कानून-व्यवस्था आनंद कुमार ने सभी जोन के एडीजी, आईजी व जिलों के पुलिस अफफसरों को अलर्ट जारी करते हुए सुरक्षा के पूरे इंतजाम करने के निर्देश दिये हैं। इसके अलावा सभी जिलों के पुलिस अफसरों को सार्वजनिक स्थलों पर पुख्ता सुरक्षा-व्यवस्था रखने के निर्देश दिये गये हैं। स्टेट इंटेलीजेंस व अन्य जांच एजेंसियों को भी सतर्क रहने को कहा गया है।

बता दें कि बीते 2 अप्रैल को दलित संगठनों ने भारी विरोध-प्रदर्शन के बीच भारत बंद किया था। इसके बाद केंद्र सरकार ने अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति संशोधन विधेयक 2018 लोकसभा में पेश किया। ऑल इंडिया आंबेडकर महासभा के बैनर तले 9 अगस्त को दलितों ने भारत बंद का आह्वान किया है।

यह भी पढ़ें … बड़ी खबर: अब महाराष्ट्र में बसपा को मिला दो बड़ी पार्टियों का साथ


You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *