बसपा सुप्रीमो मायावती ने बढ़ाई मोदी और शाह की धड़कनें!

बसपा सुप्रीमो मायावती ने बढ़ाई मोदी और शाह की धड़कनें!



Lucknow. आगामी लोकसभा चुनावों में एक साल से कम ही वक्त बचा हुआ है। राजनीतिक दलों में सक्रियता तेज हो गई है। रणनीति बनने लगी हैं। सत्ताधारी दल भारतीय जनता पार्टी को हराने के लिए गैरभाजपाई दल एकजुट होने लगे हैं।

गैरभाजपाई दलों के एकजुट होने से भाजपा की धड़कने तेज हो गई हैं। यही वजह है कि पीएम मोदी और पार्टी अध्यक्ष अमित शाह अभी से चुनावी मोड में दिखाई दे रहे हैं। ताबड़तोड़ रैलियों का दौर शुरू हो गया है। वहीं, प्रमुख विपक्षी दल कांग्रेस और बहुजन समाज पार्टी के मध्य प्रदेश समेत तीन राज्यों में संभावित गठजोड़ को लेकर सत्तारूढ़ पार्टी की चिंताएं बढ़ गई हैं। बीजेपी को लगने लगा है कि अगर इन दोनों पार्टियों ने हाथ मिला लिया तो उसके लिए तीनों ही राज्यों की राह और मुश्किल हो जाएगी।

यह भी पढ़ें ..मोदी सरकार के इस फैसले से नाराज हुआ ये बड़ा दलित नेता, दे डाली चेतावनी

आगामी लोकसभा चुनाव से पहले मध्य प्रदेश समेत तीन राज्यों में विधानसभा चुनाव होने हैं। इन राज्यों विधानसभा चुनाव आगामी लोकसभा चुनाव के लिहाज से काफी महत्वपूर्ण मानें जा रहे हैं। सत्ताधारी दल भाजपा को सबसे ज्यादा चिंता मध्य प्रदेश को लेकर है। माना जा रहा है कि मध्य प्रदेश में बीएसपी का जनाधार सबसे ज्यादा है। अगर बसपा और कांग्रेस ने मिलकर यह चुनाव लड़ा तो कम से कम वोट प्रतिशत के मामले में जरूर भाजपा को कड़ी टक्कर मिल सकती है। भाजपा के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि मध्य प्रदेश में भाजपा का संगठन बेहद मजबूत है और कांग्रेस को जोरदार टक्कर दे सकता है।

पार्टी सूत्रों ने बताया कि कांग्रेस और बसपा मिलकर लड़ने से 25 सीटों पर समीकरण गड़बड़ा सकते हैं। इसके अलावा बसपा का वोट ट्रांसफर होने से पूरे राज्य में कम से कम 50 सीटें ऐसी हैं, जहां कांग्रेस को एक से तीन फीसदी तक अतिरिक्त वोट मिल सकता है। वहीं, छत्तीसगढ़ में भी बसपा—कांग्रेस का गठजोड़ भाजपा की मुसीबत बढ़ा सकता है। यहां भी बसपा का लगभग 4 फीसदी वोट है। अगर पिछली बार यह गठजोड़ हुआ होता तो भाजपा के लिए सरकार बनाना शायद मुश्किल हो जाता। ऐसे में भाजपा भी हर एक कदम को फूंक—फूंक कर रख रही है।

यह भी पढ़ें … खुशखबरी: बीएसएनएल का ये नया प्लान जियो को दे रहा कड़ी टक्कर, मचाई खलबली


You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *