2019 चुनाव: यूपी में इतिहास दोहराने के लिए पीएम मोदी ने बनाया ये बड़ा प्लान, विपक्षी दलों में मचा हड़कम्प

2019 चुनाव: यूपी में इतिहास दोहराने के लिए पीएम मोदी ने बनाया ये बड़ा प्लान, विपक्षी दलों में मचा हड़कम्प



Lucknow. लोकसभा चुनाव 2019 को लेकर राजनीतिक दल ने सक्रिय हो गए हैं। एक ओर भाजपा अपनी वापसी करने की जुगत में लगी हुई हैं। वहीं, कांग्रेस भी रणनीति बनाने में जुटी हुई है। इस बीच यूपी भाजपा के अध्यक्ष महेंद्रनाथ पांडेय ने जो संकेत दिए हैं, उससे राजनीतिक दलों में हड़कम्प मच गया है। दरअसल, महेंद्रनाथ पांडेय ने कहा कि भाजपा मिशन 2019 को लेकर गम्भीर है।

भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष महेंद्रनाथ पांडेय ने संकेत दिया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने चुनावी अभियान की शुरुआत अयोध्या से करेंगे। पीएम मोदी 28 जून को फैजाबाद में एक बड़ी रैली करेंगे। पीएम मोदी रैली में पूर्वांचल एक्सप्रेस के शिलान्यास समेत कई महत्वपूर्ण परियोजनाओं को जनता के बीच रखेंगे।

यह भी पढ़ें ..मायावती ने इस बड़े नेता को पार्टी से किया बाहर

रैली से साफ जाहिर है कि 2019 के लोकसभा चुनावों में एक बार फिर से राम मंदिर मुद्दा गूंजेगा। हालांकि मामला न्यायालय में विचाराधीन है, लेकिन फैजाबाद में सभा करने के पीछे भाजपा की राजनीतिक मंशा से इनकार नहीं किया जा सकता है। माना जा रहा है कि पीएम मोदी के यह रैली अब तक की पहली बड़ी चुनावी रैली होगी।

पीएम मोदी काशी से ही लड़ेंगे चुनाव!

वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के चुनाव लड़ने को लेकर किए गए सवालों के जवाब में पार्टी प्रदेश अध्यक्ष ने संकेत दिया है कि वह अगला लोकसभा चुनाव भी भोले की नगरी काशी यानि वाराणसी से ही लड़ेंगे। माना जा रहा है कि इसी को ध्यान पीएम मोदी के चुनावी अभियान का आगाज राम नगरी अयोध्या से होगा।

विपक्ष के पास नहीं है कोई चेहरा

सूत्रोंं की मानें तो प्रदेश में बीते दिनों हुए उपचुनावों में भाजपा की हार और बदले समीकरणों से पार्टी चिंतित है। हालांकि भाजपा प्रदेश अध्यक्ष का कहना है कि लोकसभा चुनाव में बसपा—सपा गठबंधन का कोई असर नहीं होगा, क्योंकि पीएम मोदी के सामने विपक्ष के पास कोई सर्वमान्य चेहरा नहीं है।

यह भी पढ़ें … अब अखिलेश और मायावती ने कांग्रेस के सामने खड़ा किया ये संकट!

पार्टी से बूथ स्तर पर शुरू की तैयारी

प्रदेश में उपचुनावों के बाद जिस तरह से सियासी समीकरण में बदलाव हो रहे हैं। उसे देखते हुए पार्टी बूथ स्तर पर तैयारी कर रही है। भाजपा अभी से ही कोई मौका नहीं छोड़ना चाहती है। भाजपा पूरे दलबल के साथ चुनाव प्रचार में कूद पड़ी है। इसी को ध्यान में रखते हुए पार्टी हाईकमान के आदेश पर सम्पर्क फॉर समर्थन अभियान शुरू किया गया है।

विपक्षी दलों में मची खलबली

भाजपा सूत्रों की मानें तो अयोध्या के बाद पीएम नरेंद्र मोदी की जो दूसरी रैली होगी, वो समाजवादी पार्टी का गढ़ माने जाने वाले आजमगढ़ में होगी। इस रैली के जरिए पूर्वांचल के विकास के नए मानदंड तय होंगे। आजमगढ़ में भाजपा की रैली की चर्चा होते ही अन्य विपक्षी पार्टियों में खलबली मच गई है।

यह भी पढ़ें … भाजपा ने समर्थन वापस लिया, जम्मू कश्मीर सरकार गिरी

2014 के इतिहास को दोहराने की कोशिश में भाजपा

बता दें कि 2014 के लोकसभा चुनावों में भारतीय जनता पार्टी को यूपी में जबरदस्त जीत हासिल हुई थी। प्रदेश की 80 सीटों में से 73 सीटों पर एनडीए ने कब्जा जमाया था। बसपा का सूपड़ा साफ हो गया था। अब भाजपा 2014 के इतिहास को दोहराने के लिए पुरजोर कोशिश में जुटी हुई है।


You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *