मध्य प्रदेश चुनाव: अब कांग्रेस को इस बड़ी पार्टी का मिला समर्थन, भाजपा में मचा हड़कम्प

मध्य प्रदेश चुनाव: अब कांग्रेस को इस बड़ी पार्टी का मिला समर्थन, भाजपा में मचा हड़कम्प



Lucknow. कर्नाटक चुनावों में मिली जीत के बाद कांग्रेस ने मध्यप्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में होने वाले चुनावों को रणनीति बनानी शुरू कर दी है। भाजपा को मात देने के लिए कांग्रेस छोटे दलों से गठबंधन कर सकती है। बसपा—कांग्रेस गठबंधन की मीडिया में चर्चा पहले से ही रही है। अब समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने भी मध्यप्रदेश में चुनाव लड़ने का ऐलान कर दिया है, जिससे भाजपा में हड़कम्प मच गया है।

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव मंगलवार को पार्टी मुख्यालय में मध्य प्रदेश के पार्टी पदाधिकारियों, प्रभारियों तथा प्रमुख कार्यकर्ताओं की बैठक को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि मध्य प्रदेश में समाजवादी पार्टी अपने प्रत्याशी खड़े करेगी। समाजवादी पार्टी के जिताऊ और निष्ठावान प्रत्याशी होगें। उन्होने कहा कि पार्टी संगठन को मजबूत करना और चुनावों में हिस्सा लेना साथ-साथ होगा।

चुनाव में समय कम है इसलिए बूथ स्तर और विधानसभा स्तर पर सुनियोजित ढंग से काम करना है। जनसंपर्क कार्य में तेजी लानी होगी। पार्टी को मजबूत बनाने के लिए संगठन कार्य में ज्यादा समय देना होगा। अखिलेश ने कहा कि भाजपा सरकारें नकारात्मक प्रशासनिक व्यवस्थाएं चला रही है। भाजपा की मध्य प्रदेश में सरकार है जिसने राज्य को बर्बाद के कगार पर पहुंचा दिया है। किसानों को कर्जमाफी के नाम पर धोखा मिला है। विकास को जाति और धर्म में बांट दिया गया है। विकास और सामाजिक न्याय दोनों का संतुलन होगा।

यह भी पढ़ें … योगी सरकार ने दी सात बड़े प्रस्तावों को मंजूरी

अखिलेश यादव ने कहा कि वे 19-20 जुलाई 2018 को मध्य प्रदेश में रहेगें। भोपाल में राज्यभर के कार्यकर्ताओं की बैठक को भी संबोधित करेंगे तथा मध्य प्रदेश में विधानसभा चुनावों पर चर्चा करने के बाद रणनीति पर विचार करेंगे। उनकी मांग है कि आधार के सहारे जनगणना में जातीय गणना भी हो ताकि सानुपातिक रूप से समाज के सभी वर्गो की भागीदारी तय हो सके। उन्होने कहा कि मध्य प्रदेश में लोग भाजपा से नाराज हैं परन्तु कांग्रेस से भी खुष नही है। समाजवादी पार्टी को इसलिए चुनाव में मजबूत प्रत्याशी उतारने होगें और संगठन सुदृढ़ करना होगा।

बैठक में कहा गया कि मंदसौर में पिछले दिनों हुए किसान आंदोलन में 6 किसान शहीद हुए। पार्टी किसान  की समस्याओं को लेकर संषर्घ करती रही है। भाजपा मतदाताओं को बहकाने का काम करती है। इससे सतर्क रहना है। उन्होने कहा मध्य प्रदेश में समाजवादी पार्टी की भूमिका बड़ी होगी लेकिन साथ ही दल के लोगों को भी बड़ा दिल करना पडे़गा।

यह भी पढ़ें … कांग्रेस के इस नेता ने किया बड़ा ऐलान, भाजपा में मची खलबली

बैठक में पार्टी उपाध्यक्ष किरनमय नंदा, मध्य प्रदेश अध्यक्ष गौरी यादव, इंदौर के पूर्व सांसद श्री कल्याण जैन, चंद्रपाल सिंह, सुरेंद्र नागर, नीरज शेखर सांसदगण पूर्व मंत्री राजेंद्र चौधरी, एमएलसी एसआरएस यादव तथा अरविन्द कुमार सिंह, वसीम बरेलवी भी उपस्थित थे।

यह भी पढ़ें … राहुल गांधी अमेठी दौरा रद्द, ये है बड़ी वजह


You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *