खीरी: यतीश शुक्ला ने 148 घंटे लगातार पढ़ाकर बनाया विश्व रिकार्ड

खीरी: यतीश शुक्ला ने 148 घंटे लगातार पढ़ाकर बनाया विश्व रिकार्ड



मन्दीप कुमार वर्मा/रामकुमार

पिपरिया धनी, खीरी। मोहम्मदी तहसील के रेहरिया में रहने वाले यतीश शुक्ला ने गोरखपुर में चार से 10 जून तक हुए लांगेस्ट मैराथन लेक्चर में वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाकर गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में अपना नाम दर्ज कराया है। उन्होंने अपने बच्चों के साथ लगातार 148 घंटे 14 मिनट 13 सेकेंड पढ़ाकर यह विश्व रिकॉर्ड बनाने में महारत हासिल की है। यतीश शुक्ला की सफलता पर क्षेत्रवासियों ने उन्हें बधाई दी है।

गोरखपुर सिविल लाइन 10 पार्क रोड स्थित फैकल्टी टाइम इंस्टीट्यूट में अनुमति प्राप्त विषय भारत का इतिहास, भूगोल, अर्थव्यवस्था, राज्यव्यवस्था और समसामयिक मुद्दे थे। यतीश शुक्ला ने 4 जून से शुरु हुए इस मैराथन स्पीच को सुबह 6 बजे सतीश ने विधिवत पूजा पाठ कर गीता का श्लोक पढकर किया। इस दौरान गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड की टीम भी मौजूद रही थी। लगातार 148 घंटे के इस लक्ष्य को प्राइड ऑफ गोरखपुर का नाम दिया गया है, जिसमें विभिन्न संस्थानों के बच्चों व अध्यापकों की भागीदारी के साथ-साथ यतीश चंद्र शुक्ल का मनोबल बढ़ाने के लिए बच्चो और ज्यादा से ज्यादा लोगों मौजूद रखा गया था।

यह भी पढ़ें … अखिलेश ने की मायावती की तारीफ, 2019 को लेकर किया बड़ा ऐलान

यतीश शुक्ला के नए विश्व रिकॉर्ड स्थापित करने के लिए गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड् से अनुमति प्राप्त करने के लिए अप्लाई किया था। वह विगत 1 वर्ष से इसके लिए लगातार प्रयास कर रहे थे। सब कुछ योजना के अनुसार ही हुआ व यह विश्व कीर्तिमान गोरखपुर एवं उत्तर प्रदेश के नाम दर्ज हो गया। इसके लिए लगभग 25 शिक्षकों एवं 100 विद्यार्थियों की टीम लगातार काम कर रही थी।

यतीश शुक्ला को ऐसे मिली प्रेरणा

यतीश शुक्ला ने बताया कि वह लगभग पांच साल से सिविल की तैयारी कर रहे थे। साथ में एक साल से गोरखपुर में ही एक इंस्टीट्यूट में बतौर शिक्षक कार्य कर रहे हैं। इस वर्ष लगभग 4 लाख बच्चों ने बोर्ड परीक्षा में नकल पर सख्ती होने के कारण छोड़ दी थी, जिससे उन्होंने बच्चों को प्रेरित करने के लिए कुछ ऐसा कार्य करने की ठानी, जिसमें बच्चे पढ़ने के लिए प्रेरित हो सकें।

यह भी पढ़ें ..एक और किसान पर बाघ ने किया हमला, गम्भीर

श्री शुक्ला ने कहा कि भारत का इतिहास भूगोल, पॉलिटिक्स, समसामयिक मुद्दे को ध्यान में रखकर तैयारी की, जिससे बच्चे पढाई के मामले में प्रेरित हो सकें। उन्होंने कहा कि लगातार 148 घंटे लेक्चर से कुछ नहीं हो रहा है, अगर आप भी 4 घंटे रोज पढ़ लोगे तो आप अपने परीक्षा में सफल हो जाओगे।

यह भी पढ़ें …  विधायक अरविन्द गिरि ने जनसम्पर्क कर गिनाई प्रदेश सरकार की उपलब्धियां


You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *