कुशीनगर के इस युवक ने कराया सेक्स चेंज, अब लड़की बनकर है खुश

कुशीनगर के इस युवक ने कराया सेक्स चेंज, अब लड़की बनकर है खुश



Share on FacebookTweet about this on TwitterShare on Google+Pin on PinterestShare on LinkedIn

Lucknow. यूपी के कुशीनगर निवासी 22 वर्षीय एक युवक 12 वर्ष की ही उम्र में लड़की बनने का सपना संजो लिया था, जो अब पूरा हो गया है। दरअसल, किंग जार्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी (केजीएमयू) के डॉक्टरों ने आॅपरेशन कर सेक्स चेंज करने में सफलता ​हासिल की है। डॉक्टरों ने आॅपरेशन के ज​रिए कुशीनगर निवासी युवक को लड़की बना दिया है। बताया जा रहा है चिकित्सकों ने चिकित्सकों ने युवक के मनमुताबिक शरीर में बदलाव कर दिए हैं। डॉक्टरों के मुताबिक, निजी अस्पतालों में सेक्स बदलने की सर्जरी पर करीब तीन से चार लाख खर्च आता है। जबकि केजीएमयू में मरीज का सात हजार रुपये ही खर्च हुए हैं।

राजधानी के केजीएमयू के प्लास्टिक सर्जरी वार्ड में भर्ती कुशीनगर निवासी एक 22 वर्षीय युवक ने बताया कि छह साल पहले उसके माता—पिता की मौत हो गई है, अब उसके सिर्फ एक बड़ी बहन है, जिसकी भी शादी हो चुकी है। युवक ने बताया कि बचपन से ही उसे महिलाओं के बीच बैठना और उनके काम करने के तौर तरीके उसे काफी पसंद हैं। घर में रखी महिलाओं और लड़कियों की ड्रेस छिप—छिप कर पहनने का शौक था। इन्हीं सब कारणों के चलते 12 वर्ष की ही उम्र में उसने लड़की बनने का सपना संजोया था। युवक ने बताया कि वह अपना सेक्स चेंज कराना चाहता, जिसे लेकर वह काफी परेशान भी रहने लगा था। सेक्स चेंज कराने के लिए डेढ़ वर्ष पूर्व वह गोरखपुर मेडिकल कॉलेज गया था, लेकिन वहां के डॉक्टरों ने उसे केजीएमयू भेज दिया था।

यह भी पढ़ें … अब एक मंच पर होंगे आरबीआई पूर्व गवर्नर रघुराम राजन, सीएम योगी और आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत!

केजीएमयू के प्लास्टिक सर्जरी विभाग के डॉ. एके सिंह से युवक ने सेक्स चेंज करने की बात कही तो उन्होंने उसे मूलरूप में ही रहने की सलाह दी थी, उसकी काउंसलिंग भी कराई गई की, लेकिन वह अपने फैसले पर अडिग रहा। डॉक्टरों ने युवक के बारे में मनोवैज्ञानिक से सलाह ली। इसके डॉक्टरों ने रक्त, जींस, मेल और फीमेल हार्मोन की जांच की और अल्ट्रासाउंड के जरिए मेल ऑर्गन के विकास का परीक्षण किया। इन सब जांचों के बाद डॉक्टर ने आठ माह तक युवक को हार्मोन थेरेपी दी गई, जिससे युवक में मौजूद पुरुषों वाले हार्मोन टेस्टोस्टेरॉन का औसत और कम हुआ। वहीं, महिलाओं में पाए जाने वाला स्ट्रोजेन हार्मोन का स्तर बढ़ाया गया।

आॅपरेशन में लगे आठ घंटे

डॉ. एके सिंह ने बताया कि आठ मई को युवक को भर्ती कर ऑपरेशन किया गया। सेक्स रीअसाइंमेंट सर्जरी में करीब आठ घंटे लगे। इसमें युवक के टेस्टिस (वृषण) निकाल दिए गए। मेल आर्गन की त्वचा से फीमेल ऑर्गन बना दिया गया। वहीं अंडकोष की थैली की स्किन से फीमेल आर्गन में सेलेबिया माइनोरा और लेबिया मैजोरा का निर्माण किया गया। डॉक्टर ने बताया कि युवक के चेहरे के बाल कम करने के लिए फीमेल हार्मोन की दवा और दी जाएगी।

यह भी पढ़ें … अब विश्व हिन्दू परिषद के कार्यक्रम में शामिल होंगे रघुराम राजन! कांग्रेस को झटका

लेजर से भी बाल हटाए जाएंगे। इसके अलावा स्तन आदि को आकार देने के लिए ब्रेस्ट इंप्लांटेशन किया जा सकता है। हालांकि बताया जा रहा है कि सेक्स बदलकर मेल से फीमेल बनने पर गर्भ धारण नहीं हो सकता है, क्योंकि इसमें यूट्रस और ओवेरी का निर्माण नहीं किया जाता है। ऑपरेशन टीम में डॉ. बृजेश कुमार मिश्र, डॉ. गुरु प्रसाद रेड्डी, डॉ. समीर, डॉ. जीपी सिंह व डॉ. तनमय मौजूद रहे।

लड़की बनने के बाद युवक है खुश

वहीं, आॅपरेशन सफल होने के बाद युवक खुश नजर आ रहा है। युवक ने अपने पुराने नाम का खुलासा करने से मना किया है। युवक ने बताया डॉक्टर जल्द ही जेंडर चेंज सर्टिफिकेट देंगे तो उसमें वो अपना नाम मुन्नी दर्ज कराने का अनुरोध करेगा। अब लड़की बनने के बाद युवक को मुन्नी नाम काफी रास आ रहा है।

यह भी पढ़ें … Video: आंधी-तूफान से मस्जिद की मीनार गिरी, चार लोगों की मौत


You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *