दलित युवक की मौत मामले पर योगी सरकार की बढ़ी मुसीबत, मानवाधिकार आयोग ने कहा...

दलित युवक की मौत मामले पर योगी सरकार की बढ़ी मुसीबत, मानवाधिकार आयोग ने कहा…



दलित युवक की मौत मामले पर योगी सरकार की बढ़ी मुसीबत, मानवाधिकार आयोग ने कहा...
दलित युवक की मौत मामले पर योगी सरकार की बढ़ी मुसीबत, मानवाधिकार आयोग ने कहा…

लखनऊ। प्रदेश दलित युवक की मौत मामले में योगी सरकार की मुसीबतें बढ़ गई हैं। मानवाधिकार आयोग ने योगी सरकार से जवाब मांगा है। बता दें कि बागपत में दलित युवक की बेरहमी से पिटाई के बाद हुई मौत के मामले का स्वत: संज्ञान लेते हुए राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने मुख्य सचिव व डीजीपी को नोटिस जारी कर चार हफ्ते में जवाब मांगा है।

 

जानकारी के मुताबिक, बागपत में 27 अप्रैल को एक दलित युवक और गुज्जर युवती के बीच प्रेम प्रसंग को लेकर एक 19 वर्षीय दलित युवक और उसके 16 वर्षीय साथी ही बेरहमी से पीटा गया था। इस पिटाई से दलित युवक ने बाद में दम तोड़ दिया। इस घटना के बाद त्वरित कार्रवाई करते हुए सभी सात अभियुक्तों को गिरफ्तार कर लिया है और पीडि़त के घर के आसपास पुलिस तैनात कर दी गई है।

यह भी पढ़ें … खुशखबरी: अब शिक्षक आसानी से करा सकेंगे ट्रांसफर, ये है प्रक्रिया

बताते हैं कि घटना को अंजाम देने वालों पर सवर्णो और ग्राम प्रधान का हाथ था, जिसके विरोध करने पर गांव में दलितों के घरों में तोडफ़ोड़ व आगजनी भी की गई। अब इस मामले को राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने स्वत: संज्ञान में लिया है। मुख्य सचिव राजीव कुमार और डीजीपी ओपी सिंह को नोटिस जारी कर चार सप्ताह में जवाब देने को कहा है। आयोग ने कहा कि यह घटना दर्शाती है कि इलाके में कुछ सवर्ण जाति के लोगों की वजह से अराजकता की स्थिति है और जंगल राज है। आयोग ने पूछा है कि वहां हालात काबू करने और लोगों के पुनर्वास के लिए आखिर क्या कदम उठाए गए हैं?

यह भी पढ़ें … कर्नाटक चुनाव : जेडी-एस ने घोषणापत्र में किसान कर्जमाफी का वादा किया


You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *