इंदु मल्होत्रा की नियुक्ति पर रोक लगाने से सुप्रीम कोर्ट का इनकार

इंदु मल्होत्रा की नियुक्ति पर रोक लगाने से सुप्रीम कोर्ट का इनकार



Share on FacebookTweet about this on TwitterShare on Google+Pin on PinterestShare on LinkedIn

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने उस याचिका पर सुनवाई करने से इनकार कर दिया, जिसमें वरिष्ठ अधिवक्ता इंदु मल्होत्रा को सुप्रीम कोर्ट का न्यायाधीश बनाए जाने पर रोक लगाने की मांग की गई थी। प्रधान न्यायाधीश न्यायमूर्ति दीपक मिश्रा, न्यायमूर्ति एएम खानविलकर और न्यायमूर्ति डीवाई चंद्रचूड़ की पीठ ने वरिष्ठ अधिवक्ता इंदिरा जयसिंह की याचिका पर यह फैसला दिया।

supreme court of India

याचिका में जयसिंह ने मल्होत्रा को सुप्रीम कोर्ट की न्यायाधीश के तौर पर शपथ नहीं दिलाने और सरकार को उत्तराखंड उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति के. एम. जोसेफ के नाम की भी सिफारिश (सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीश के पद के लिए) करने का निर्देश सरकार को देने की मांग की थी। पीठ ने कहा कि बार की एक सदस्य की नियुक्ति पर रोक लगाने के लिए वकीलों की ओर से याचिका दायर करना अकल्पनीय, सोच से परे, समझ से बाहर और कभी नहीं सुनी जाने वाली बात है। सरकार को इस बात का अधिकार है कि वह (न्यायाधीश पद के लिए) उसे भेजे गए नाम पर पुनर्विचार करने के लिए कह सके।

यह भी पढ़ें … यूपी का ये नेता एमपी में कांग्रेस की नैया पार लगाएगा

पीठ ने कहा कि संवैधानिक औचित्य के तहत इंदु मल्होत्रा की नियुक्ति के वारंट को लागू किया जाना चाहिए। केंद्र सरकार ने शीर्ष अदालत कॉलेजियम को न्यायमूर्ति के. एम. जोसेफ को सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीश के रूप में प्रोन्नत करने की सिफारिश पर पुनर्विचार करने को कहा, लेकिन वरिष्ठ अधिवक्ता इंदु मल्होत्रा की नियुक्ति को मंजूरी प्रदान की। सरकार के इसी फैसले का जिक्र करते हुए इंदिरा जयसिंह ने पीठ से कहा कि ऐसा नहीं हो सकता। उन्होंने कहा कि या तो दोनों नामों की सिफारिश की जाए या फिर दोनों खारिज कर दिए जाएं।

इस पर अदालत ने कहा कि सरकार किसी भी नाम को वापस पुनर्विचार के लिए भेजने का हक रखती है और फिर कॉलेजियम संविधान और सुप्रीम कोर्ट के फैसलों के आधार पर फैसला करता है। अधिवक्ता ने याचिका पर त्वरित सुनवाई की मांग की जिसे शीर्ष अदालत ने खारिज कर दिया। इंदिरा जयसिंह ने अदालत को बताया कि 100 से अधिक अधिवक्ताओं ने याचिका पर हस्ताक्षर किए हैं और केंद्र के ’अपने मनमाफिक चुनाव’ के फैसले पर सवाल उठाया है।  हस्ताक्षरकर्ताओं ने न्यायाधीशों की नियुक्ति को लेकर उठे विवाद के मसले पर विचार करने के लिए सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन की शीघ्र बैठक बुलाने की मांग पर सहमति जताई है।

यह भी पढ़ें ..अब कास्टिंग काउच पर शत्रुघ्न सिन्हा बोले, मनोरंजन और राजनीति में …


You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *