आवारा सांड़ राहगीर और दुकानदारों के लिए बने मुसीबत, प्रशासन मौन

आवारा सांड़ राहगीर और दुकानदारों के लिए बने मुसीबत, प्रशासन मौन



गोला गोकर्णनाथ,खीरी। शहर में आवारा सांडों की बढती संख्या और आतंक शहरवासियों के लिए खतरा बनता जा रहा है. दर्जनों आवारा सांड राहगीर और दुकानदारों के लिए सिरदर्द बन रहे हैं। यह सांड आये दिन लोगों पर हमला बोलकर जहां गंभीर घायल कर रहे हैं वही लोगों के पास मौजूद सामान झपटकर खा जाते हैं। ऐसा ही वाक्या शुक्रवार को मोहम्मदी रोड पर देखने का मिला।

आवारा सांड़ राहगीर और दुकानदारों के लिए बने मुसीबत, प्रशासन मौन
आवारा सांड़ राहगीर और दुकानदारों के लिए बने मुसीबत, प्रशासन मौन

ग्राम असर्फीगंज निवासी लालबहादुर की पुत्री शादी 22 अप्रैल को होनी है। इसके लिए वह बैलगाडी से सामान लेने गोला आये थे। सामान खरीदने के बाद उन्होंने डनलप को एक जगह खडा कर अन्य काम निपटाने लगे, इसी बीच सांड ने डनलफ लदी चीनी की बोरी और घी के पीपे को मुंह के बल से डनलप से खींचकर नीचे गिरा लिया और उसे खाने लगा। इतने में लालबहादुर की नजर सांड पर पडी तो उन्होंने सांड को भगाने का प्रयास किया तो सांड ने लालबहादुर पर हमला बोलते हुये उन्हें दौडा लिया। लालबहादुर एक दुकान में घुसकर अपनी जान बचाई।

यह भी पढ़ें … युवक और युवती ‘प्यार’ में मरने चले थे और पहुंच गई पुलिस…

इस बीच सांड के आतंक से सडक पर अफरा तफरी का माहौल हो गया और कुछ देर के लिए यातायात भी बाधित हो गया था। आस पास के दुकानदारों ने हिम्मत जुटाकर लाठी डन्डों के बल से सांड को भगाया तब तक बहुत देर हो चुकी थी और डालडा घी की टीन व चीनी सडक पर बिखरने के कारण लालबहादुर का काफी नुकसान हो चुका था। नुकसान होने के बाद वह सांड और मौजूदा प्रदेश सरकार को वह कोसते हुये पुन: सामान खरीदकर घर चले गये।

यह भी पढ़ें … सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा के खिलाफ महाभियोग 

सांडो की लडाई में दर्जनों हो चुके घायल

आवारा सांडों की बढती संख्या लोगों के लिए बडी समस्या बन चुकी है. इनकी लडाई में रोजाना दो से तीन लोग घायल हो रहे हैं। साथ ही दुपहिया वाहनों को भी ये आवारा पशु क्षतिग्रस्त कर रहे हैं। इससे पूर्व भी कई बार यह सांड लोगों पर हमला कर चुके हैं तो कई बार बाइकों की डिग्गी आदि भी तोड चुके हैं। लेकिन इनकी ओर देखने वाला कोई नहीं है।

यह भी पढ़ें … पिता की हैवानियत से तंग तीन सगी बहनें ट्रेन के आगे कूदी

हिसंक पशुओं को ग्रामीण छोंड रहे शहर में

दिनोंदिन बढ रही गौवंश की संख्या चिंता का विषय बनती जा रही है. लोगों का आरोप है कि सरकार की अनदेखी के चलते आसपास के गांवों से लोग हिसंक पशुओं को शहर में छोड जाते हैं। अभी कुछ दिन पूर्व बिझौली में दो व्यक्ति आवारा जानवरों को ट्राली मेंं लादकर छोडने आये थे जिन्हें ग्रामीणों ने पकड लिया था। मौके पर पुलिस भी गई थी बाद में मामला रफा दफा कर दिया गया था।


You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *