जानिए कौन है ‘चाणक्य’ और ‘विश्वकर्मा’, केशव मौर्य के काम पर रखेंगे नजर

जानिए कौन है ‘चाणक्य’ और ‘विश्वकर्मा’, केशव मौर्य के काम पर रखेंगे नजर



लखनऊ। प्रदेश में लोक निर्माण विभाग के क्रिया कलापों में पारदर्शिता के लिए ‘चाणक्य’ और ‘विश्वकर्मा’ निगरानी करेंगे। इसके अलावा कार्यों की निगरानी के लिए जल्द ही ‘बाज’ आएगा। जी, हां उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने ‘चाणक्य’ और ‘विश्वकर्मा’ साफ्टवेयर लॉन्च किया। इसके अलावा जल्द ही कार्यों की निगरानी के लिए ‘बाज ऐप’ भी आएगा।

जानिए कौन है ‘चाणक्य’ और ‘विश्वकर्मा’, केशव मौर्य के काम पर रखेंगे नजर
जानिए कौन है ‘चाणक्य’ और ‘विश्वकर्मा’, केशव मौर्य के काम पर रखेंगे नजर

लोक निर्माण विभाग स्थित विश्वेस्वरैया हाल में आयोजित विभागीय परियोजनाओं एवं महत्वपूर्ण कार्यों की समीक्षा बैठक के दौरान केशव ने दोनों साफ्टवेयर को लांच करते हुए कहा कि प्रदेश सरकार ई-गवर्नेन्स, ई-ऑफिस को बढ़ावा देने के उद्देश्य से कार्य कर रही है। इसी कड़ी में आज ‘चाणक्य’ तथा ‘विश्वकर्मा’ का शुभारम्भ किया गया। उपमुख्यमंत्री ने कहा कि शीघ्र ही बाज नाम से ‘निगरानी एप’ को साफ्टवेयर से लिंक किया जाएगा। इसके माध्यम से कोई भी व्यक्ति किसी भी कार्य की गुणवत्ता, सडक़ पर गड्ढे स्थल पर फोटो लेकर इस साफ्टवेयर को भेज सकेगा, जिस पर लोक निर्माण विभाग द्वारा त्वरित कार्यवाही की जाएगी।

पारदर्शिता का काम करेगा साफ्टवेयर

केशव मौर्य ने कहा कि विभाग में बजट आवंटन के सम्बन्ध में पारदर्शिता तथा विभिन्न खंडों से मुख्यालय को निर्माणाधीन कार्यों की मांग, अनुमोदन एवं निर्गत किये जाने के उद्देश्य से विश्वकर्मा साफ्टवेयर कार्य करेगा। लोनिवि  के व्हाट्सएप पर मिली शिकायतों पर मौर्य ने कहा कि अब तक कुल 7652 शिकायतें आयीं जिसमें 1889 शिकायतें सडक़ों की थी, जिसमें से 926 शिकायतें लोक निर्माण विभाग की सडक़ों की थी, इनमें से 44 शिकायतों का निस्तारण किया जा चुका है।

यह भी पढ़ें … क्या हत्या व बलात्कार का पक्षधर भी है ‘सांस्कृतिक राष्ट्रवाद ’?

निर्माण कार्यों के लिए धन की कमी नहीं

उपमुख्यमंत्री ने कहा कि वर्षा काल में लगभग 100 दिन कार्य हो नहीं पाता था। हमारा प्रयास है कि वर्षा काल में भी हम नवीन तकनीक से गुणवत्ता युक्त सडक़ें बनायें। श्री मौर्य ने कहा कि निर्माण कार्यों हेतु धन की कमी नहीं है। अप्रैल में ही सारी स्वीकृतियां जारी हो चुकी हैं। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिये की सभी कार्य समय सीमा में तथा पूर्ण गुणवत्ता एवं पारदर्शिता से हों। उन्होने कहा कि टेण्डर एवार्ड होने के बाद जो अभियन्ता समय से कार्य पूर्ण करेंगे उन्हे सम्मानित किया जायेगा।

15 जून तब सभी सेतुओं का काम पूरा हो

उपमुख्यमंत्री ने 15 जून तक सभी सेतुओं के निरीक्षण का कार्य पूर्ण करने के निर्देश दिये और कहा कि यदि कहीं कोई समस्या हो तथा उसका समाधान शीघ्र किया जाय।    श्री मौर्य ने कहा कि अधूरे पड़े रेल परिगामी सेतुओं का निर्माण शीघ्र ही पूर्ण होगा तथा भविष्य में बनने वाले पुलों को एप्रोच सहित एक ही कार्यदायी संस्था बनायेगी। श्री मौर्य ने कहा कि सभी मुख्य मार्गों के 5 किमी के दायरे में पडऩे वाले गांवों को मुख्य सडक़ से जोड़ा जायेगा। इसके लिए  1800 करोड़ से अधिक खर्च किये जायेंगे।

यह भी पढ़ें … सरकार की मंशा निर्धनों व महिलाओं को सशक्त करना: अजय मिश्र

रोड एम्बुलेन्स पर भी किया जा रहा विचार

केशव मौर्य ने कहा कि विभाग रोड एम्बुलेन्स के सम्बन्ध में भी गम्भीरता से विचार कर रहा है। प्रदेश में सडक़ों का जाल बिछाने के लिये भारत माला परियोजना के अन्तर्गत प्रदेश में लगभग 2422 किमी सडक़ें चिन्हित की गयी हैं। जिस पर शीघ्र निर्णय लिया जाएगा। उपमुख्यमंत्री ने उपस्थित अभियन्ताओं तथा ठेकेदारों को सम्बोधित करते हुये कहा कि सरकार प्रदेश को सडक़ों का स्वर्ग बनाने के लिये संकल्पित है। ऐसे में उप्र को हम उत्तम प्रदेश बनाने की दिशा में तन-मन-धन से जुट गए हैं।

यह भी पढ़ें … विधान परिषद चुनाव से पहले सभी 13 सदस्य निर्विरोध निर्वाचित


You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *