चैती मेला : मैं अपने देश की मिट्टी से प्यार करता हूं...

चैती मेला : मैं अपने देश की मिट्टी से प्यार करता हूं…



चैती मेला : मैं अपने देश की मिट्टी से प्यार करता हूं...
चैती मेला : मैं अपने देश की मिट्टी से प्यार करता हूं…

गोला गोकर्णनाथ, खीरी। ऐतिहासिक चैती मेला के सांस्कृतिक मंच पर कुलहिंद मुशायरे का आयोजन किया गया गया, जिसमें आए हुए शायरों ने अपने कमला पेश कर जमकर खूब वाहवाही लूटी।

कार्यक्रम का शुभारम्भ मुख्य अतिथि पूर्व सांसद जफर अली नकवी, विशिष्ट अतिथि प्रहलाद पटेल, पालिकाध्यक्ष मीनाक्षी अग्रवाल ने दीप प्रज्जवलन कर किया। डॉ. वेदप्रकाश अग्निहोत्री के संयोजन में हुए मुशायरे में कोटा राजस्थान कुंवर जावेद ने पढ़ा, ‘मेरी वफाओं का इक इक निशान बोलता है, जमीन बोलती है, आसमान बोलता है। मैं अपने देश की मिट्टी से प्यार करता हूं। मेरी जुबान से हिन्दोस्तान बोलता है।

यह भी पढ़ें … जानिए फीचर्स, Nokia ने लॉन्च किए तीन धमाकेदार स्मार्टफोन

पत्थर को मोम कर दे, शीशे को दिल बना दे

सुहेल आजाद नासिक ने यूं बयां किया मुकद्दर में भले मसनद नहीं है, किसी से कम हमार कद नहीं है, यहीं तहजीब से रहना पड़ेगा, मियां चम्बल है ये संसद नहीं है। बिहार के शंकर कैमूरी ने कहा वे आदमी तलाशो जो करके दिखा दे, पत्थर को मोम कर दे, शीशे को दिल बना दे। लया हूं बंद करके मैं सात परातों में, किसका लहू है कोई डॉक्टर बता दे।

किसी लड़की की खातिर भूलकर भी जान मत देना

मुम्बई के मुजाबर मालेगावी ने कहा मेरी बेगम तेरी बातों पे भरोसा करके, मुझको पीटा गया ससुराल में लटा करके। नैनीताल के मोहन मुन्तजिर ने कहा तरस जाओगे जन्नत को अगर मां बाप रोयेंगे, किसी लड़की की खातिर भूलकर भी जान मत देना। रुड़की के वकार बेधड़क ने कहा कि आशिकों की हो रही यौं धर पकड़, दिल ये बोला बेधड़क अब घर पकड़।

यह भी पढ़ें … सुब्रमण्यम स्वामी बोले, मैं तो रोज जाता हूं संसद, क्यों छोड़ू अपना वेतन

तेरे दिल में उतर जाऊंगी

आगरा की डॉ. आरिफा शबनम ने कहा चांदनी बनके तेरे दिल में उतर जाऊंगी, तू निगाहों से छुऐगा तो निखर जाऊंगी। फतेहपुर की गुलेशबा ने मोहब्बत पर कहा बहुत नादान है दोनों मोहब्बत करने वाले हैं, जलालुद्दीन अकबर से बगावत करने वाले हैं। कानपुर की नूरी परवीन ने कहा प्यार का तकोजा है मै न बाज आऊंगी, उम्र भर तू रूठेगा उम्र भर मनाऊंगी।

दिल को आबाद कर लिया मैने

आलम सुल्तानपुरी ने कहा कभी तुलसी कभी कबिरा कभी रसखान कह देना, खुदा ने जो बनाई है वही पहचन कह देना। कायमबंज के पवन बाथम ने कहा आपको याद कर लिया, दिल को आबाद कर लिया मैने, कुछ समझदार लोग कहते हैं,  खुद को बर्बाद कर लिया मैने। कार्यक्रम का संचालन मनोज श्रीवास्तव एडवोकेट ने किया।

यह भी पढ़ें … हरदोई का य​ह शख्स रातोंरात बन गया करोड़पति

कार्यक्रम में ये लोग रहे मौजूद

इस मौके पर अधिशासी अधिकारी आर.आर.अम्बेश, कोतवाल संजय कुमार त्यागी, सदस्य आशीष अवस्थी, आनन्द सोनी, वीरेंद्र, संजय वर्मा, अन्नू शुक्ला, गुडि़या, रामरक्षपाल राजपूत, अनीस अहमद, जमाल अहमद राईन, अरविंद पांडे, ओमप्रकाश वर्मा, अंजुम वारसी, राजेश बाजपेयी, निरेंद्र कुमार धाकड़े, श्रीशचंद्र त्रिपाठी, अमित श्रीवास्तव, अजय कुमार वर्मा, मोहित गिरि, पंकज कुमार, अशोक कुमार, विशाल शुक्ला आदि मौजूद रहे।

अखिल भारतीय कवि सम्मेलन आठ को

ऐतिहासिक चैती मेला के सांस्कृतिक मंच पर 8 अप्रैल को अखिल भारतीय कवि सम्मेलन का आयोजन किया जाएगा। जिसमें मथुरा के श्यामसुंदर अकिचन, अलबर राजस्थान के विनीत चौहान, देवास मध्यप्रदेश के शशिकांत यादव, जयपुर राजस्थान के अब्दुल गफ्फार, कानपुर के हेमंत पांडे,  इलाहाबाद के अखिलेश, पुणे के शरदेन्दु शुक्ल शरद, आगरा की डॉ. रुचित चतुर्वेदी, दिल्ली की कल्पना शुक्ला व मोनिका देहलवी, उन्नाव से अर्पित बाजपेई आदि प्रखर कवि सम्मेलन में भाग लेंगे।


You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *