सीबीआई ने आरपी इंफो सिस्टम के निदेशकों को गिरफ्तार किया

सीबीआई ने आरपी इंफो सिस्टम के निदेशकों को गिरफ्तार किया



नई दिल्ली। सीबीआई ने गुरुवार को कोलकाता स्थित कंप्यूटर बनाने वाली कंपनी आरपी इंफो सिस्टम के दो निदेशकों को बैकों के संघ से कथित रूप से 515.15 करोड रुपये के धोखाधड़ी के आरोप में गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तार किए गए निदेशकों की पहचान शिवाजी पानजा और कौस्तव रे के रूप में की गई है।

यह भी पढ़ें :- सुप्रीम कोर्ट ने कार्ति को गिरफ्तार नहीं करने की अवधि बढ़ाई

केन्द्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने 26 फरवरी को केनरा बैंक द्वारा शिकायत दर्ज कराए जाने के बाद कंपनी और उसके निदेशकों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की थी। यह आरोप लगाया गया है कि कंपनी के निदेशक पानजा, रे, विनय बफाना और अन्य ने केनरा बैंक एवं अन्य 9 सहायक बैंकों के साथ 515.15 करोड़ रुपए की धोखाधड़ी की। संघ के अन्य सदस्य थे स्टेट बैंक ऑफ इंडिया, स्टेट बैंक ऑफ बीकानेर और जयपुर, स्टेट बैंक ऑफ पटियाला, यूनियन बैंक ऑफ इंडिया, इलाहाबाद बैंक, ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स, सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया, पंजाब नेशनल बैंक और फेडरल बैंक। यह आरोप लगाया गया कि गलत और जाली दस्तावेजों की आधार पर ऋण लिया गया। बैंकों ने यह भी आरोप लगाया कि कंपनी ने वित्तीय विवरणों में हेरफेर की और ऋण खाते के माध्यम से बिक्री को नहीं दर्शाया।

यह भी पढ़ें :- अवसरवादी, सिद्धांतविहीन, सत्तालोभी, दलबदलुओं से कलंकित होती राजनीति

केनरा बैंक ने अपनी शिकायत में आरोप लगाया है कि कंपनी ने चिराग नामक ब्रांड के साथ कंप्यूटर का निर्माण किया था और उसने 2012 के बाद से समय-समय पर बैंक संघ से धन अर्जित किया था। बैंक की शिकायत अब प्राथमिकी का हिस्सा है। प्राथमिकी के अनुसार यह कर्ज अब नॉन परफार्मिंग एसेट (एनपीए) बन चुके हैं। सीबीआई ने 2015 में भी कंपनी पर आईडीबीआई बैंक से 180 करोड़ रुपए को धोखाधड़ी करने के मामले में मुकदमा दर्ज किया था।


You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *