पुलिस ने हिमांशु के शव को कब्र से निकालकर पोस्टमॉर्टम के लिए भेजा

पुलिस ने हिमांशु के शव को कब्र से निकालकर पोस्टमॉर्टम के लिए भेजा



पुलिस ने हिमांशु के शव को कब्र से निकालकर पोस्टमॉर्टम के लिए भेजा
पुलिस ने हिमांशु के शव को कब्र से निकालकर पोस्टमॉर्टम के लिए भेजा

गोला गोकर्णनाथ, खीरी। कोतवाली क्षेत्र में नौ फरवरी की रात सोते समय 17 वर्षीय छात्र की संदिग्ध अवस्था में हुई मौत के मामले में परिजनों ने पोस्टमॉर्टम पर संदेह जताते हुए दोबारा पोस्टमॉर्टम कराने का पुलिस प्रशासन से अनुरोध किया था। जिस पर पुलिस ने कार्यवाही करते हुए किशोर का शव कब्र से निकलवाकर पोस्टमॉर्टम के लिए पुन: भेजा है।

यह भी पढ़ें :- धूमधाम से मनाया गया संत गाडगे महराज का 142वां जन्मदिन

गौरतलब है कि नौ फरवरी की रात ग्राम अलीगंज निवासी सुशील कुमार मिश्र पुत्र स्व. शीलवंत मिश्रा अपने 17 वर्षीय पुत्र हिमांशु के साथ गुरुवार की रात्रि घर के बाहर बने बंगले में अलग-अलग तख्त पर सो रहे थे। सुबह उठने पर उनके एकलौते पुत्र हिमांशु का शव रंक्तरंजित हालत में बाहर पड़ा मिला था। सूचना पर पहुंची पुलिस और फॉरेसिंक टीम ने घटनास्थल की बारीकी से जांच की। इसके बावजूद किसी नतीजे पर नहीं पहुंच सकी थी।

यह भी पढ़ें :- नौकरी का झांसा देकर 29 हजार ठगने का आरोप

पुलिस ने शव को पोस्टमॉर्टम के लिए जिला अस्पताल के लिए भेज दिया। पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आ जाने के बाद सुशील कुमार मिश्र ने कहा कि उनके बेटे हिमांशु की आंखे फूटी थी और सिर व गले पर चोट के निशान थे वह पोस्टमॉर्टम में स्पष्ट नहीं हैं। उन्होंने पोस्टमॉर्टम पर संदेह जताते हुए पुलिस प्रशासन से दोबारा कराए जाने की गुहार लगाई थी। इसके बाद पुलिस अधीक्षक डॉ. एस चेनप्पा के आदेश पर प्रभारी निरीक्षक संजय कुमार त्यागी के नेतृत्व में चौकी इंचार्ज हर्षित सिंह, एसआई विपिन कुमार सहित पुलिस कर्मियों ने ग्रामीणों की मदद से कब्र खोदवाकर हिमांशु का शव बाहर निकलवाकर उसे पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया है।

पांच लोगों पर है हत्या का आरोप

हिमांशु की हत्या के मामले में सुशील कुमार मिश्र ने रंजिशन बेटे की हत्या किए जाने का आरोप लगाते हुए विजय तिवारी पुत्र मंशाराम तिवारी, संजू तिवारी व विभू तिवारी पुत्रगण विजय तिवारी व बद्री निवासीगण अलीगंज, कृष्ण कुमार तिवारी निवासी कुसुमौरी के खिलाफ नामजद मुकदमा दर्ज कराया था।

पुलिस नहीं पहुंची किसी नतीजे पर

हिमांशु की हत्या हुए दो सप्ताह से अधिक समय हो जाने के बाद भी पुलिस की जांच ज्यों की त्यों पड़ी है। घटना संदिग्ध होने के कारण पुलिस किसी भी नतीजे पर नहीं पहुंच सकी। इधर पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में सुशील कुमार मिश्र ने संदेह व्यक्त कर पुलिस के लिए और मुश्किल बढ़ा दी है। पुलिस दूसरी पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आ जाने के बाद ही जांच को बढ़ा सकेगी।

यह भी पढ़ें :- गुरु हरिकिशन डिग्री कॉलेज का शैक्षणिक भ्रमण दल वापस


You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *